"गाय का माखन, यशोधा का दुलार
ब्रह्माण्ड के सितारे कन्हैया का श्रृंगार
सावन की बारिश और भादों की बहार
नन्द के लाला को हमारा बार-बार नमस्कार...।।
gaay ka maakhan, yashodha ka dulaar brahmaand ke sitaare kanhaiya ka shrrngaar saavan kee baarish aur bhaadon kee bahaar

"पलके झुका के नमन करे
मस्तक झुका के वंदना करे
ऐसी नज़र दे दे मेरे कान्हा
जो बंद होते ही आपके दीदार करे...।।
palake jhuka ke naman kare mastak jhuka ke vandana kare aisee nazar de de mere kaanha jo band hote hee aapake deedaar kare

"कृष्णा की ज्योति से नूर मिलता है
सबके दिलों को सुरूर मिलता है
जो भी जाता है कान्हा के द्वार
कुछ ना कुछ जरुर मिलता है...।।
krshna kee jyoti se noor milata hai sabake dilon ko suroor milata hai jo bhee jaata hai kaanha ke dvaar kuchh na kuchh jarur milata hai

"श्री कृष्णा गोविंद हारे मुरारी
हे नाथ नारायण वासुदेव
त्रिभुवन के स्वामी
सदा ही हम सब पर कृपा बनाए रखना...।।
shree krshna govind haare muraaree he naath naaraayan vaasudev tribhuvan ke svaamee sada hee ham sab par krpa banae rakhana

"जिसकी लीला है निराली
जिसके नाम से आती खुशहाली
उस कृष्ण की दीवानी दुनिया सारी...।।
jisakee leela hai niraalee jisake naam se aatee khushahaalee us krshn kee deevaanee duniya saaree

"उसकी लीला की बात निराली
जहा नाम हो उसका वहां आती बस खुशहाली
मधुबन का है वो कन्हैया
ओर गोपिया है जिसकी दीवानी...।।
usakee leela kee baat niraalee jaha naam ho usaka vahaan aatee bas khushahaalee madhuban ka hai vo kanhaiya or gopiya hai jisakee deevaanee.

"माखन चुराकर जिसने खाया
बंसी बजाकर जिसने नचाया
ख़ुशी मनाओ उनके जन्म दिन की
जिन्होंने दुनिया को प्रेम का रास्ता दिखाया...।।maakhan churaakar jisane khaaya bansee bajaakar jisane nachaaya khushee manao unake janm din kee jinhonne duniya ko prem ka raasta dikhaaya

"जो सबको राह दिखाते और सबकी बिगड़ी बनाते हैं
हम तो ऐसे कृष्ण-कन्हैया का गुणगान गाते हैं...।।
jo sabako raah dikhaate aur sabakee bigadee banaate hain ham to aise krshn-kanhaiya ka gunagaan gaate hain

"रूप बड़ा प्यारा है
चेहरा बड़ा निराला है
बड़ी से बड़ी मुसीबत को
कन्हैया जी ने पल मे हल कर डाला है...।।
roop bada pyaara hai chehara bada niraala hai badee se badee museebat ko kanhaiya jee ne pal me hal kar daala hai

"दही की हांड़ी, बारिश की फुहार
माखन चुराने आया नन्दलाल...।।
dahee kee haandee baarish kee phuhaar maakhan churaane aaya nandalaal

"लीला जिसकी अपरम्पार
जिसने बनाया यह संसार
जिसने गाया गीता सार
हम सबको है उससे प्यार...।।
leela jisakee aparampaar jisane banaaya yah sansaar jisane gaaya geeta saar ham sabako hai usase pyaar

"श्री कृष्ण के कदम आपके घर आये
आप खुशियो के दीप जलाये
परेशानी आपसे आँखे चुराए
कृष्ण जन्मोत्सव की आपको शुभकामनायें...।।
shree krshn ke kadam aapake ghar aaye aap khushiyo ke deep jalaaye pareshaanee aapase aankhe churae krshn janmotsav kee aapako shubhakaamanaayen

"आओ मिलकर सजाये नन्दलाल को
आओ मिलकर करें उनका गुणगान! जो
सबको राह दिखाते हैं
और सबकी बिगड़ी बनाते हैं...।।
aao milakar sajaaye nandalaal ko aao milakar karen unaka gunagaan jo sabako raah dikhaate hain aur sabakee bigadee banaate hain

"माखन का कटोरा, मिशरी का थाल
मिट्टी की खुश्बू, बारिश की फुहार
राधा की उम्मीदे, कन्हैया का प्यार
मुबारक हो आपको, जन्माष्टमी का त्योहार...।।
maakhan ka katora misharee ka thaal mittee kee khushboo baarish kee phuhaar raadha kee ummeede kanhaiya ka pyaar mubaarak ho aapako janmaashtamee ka tyohaar

"कन्हैया हमारे दुलारे
वही सबसे प्यारे
माखन के लिए झगड़ जाए
गोपिया देखकर आकर्षित हो जाए
लेकिन सबके रखवाले
तभी तो सभी के दुलारे...।।
kanhaiya hamaare dulaare vahee sabase pyaare maakhan ke lie jhagad jae gopiya dekhakar aakarshit ho jae lekin sabake rakhavaale

"वो मोर मुकुट,वो नन्द लाल
वो मुरली मनोहर,वो बंसी वाला
वो माखन चोर,वो ब्रज लाला
जन्म अष्टमी की हार्दिक बधाई...।।
vo mor mukut vo nand laal vo muralee manohar vo bansee vaala vo maakhan chor vo braj laala janm ashtamee kee haardik badhaee

"यशोदा का लाल, देते उसको सब दुलार
माखन खाने की करता सबसे मनुहार
गोपियों संग करता नित-नई लीला अपार
कृष्णा जन्माष्टमी लाये आपके जीवन में बहार...।।
yashoda ka laal dete usako sab dulaar maakhan khaane kee karata sabase manuhaar gopiyon sang karata nit-naee leela apaar krshna janmaashtamee laaye aapake jeevan mein bahaar

"कृष्णा तेरी गलियों का जो आनंद है
वो दुनिया के किसी कोने में नहीं
जो मजा तेरी वृंदावन की रज में है
मैंने पाया किसी बिछौने में नहीं...।।
krshna teree galiyon ka jo aanand hai vo duniya ke kisee kone mein nahin jo maja teree vrndaavan kee raj mein hai mainne paaya kisee bichhaune mein nahin

"सोचा किसी अपने से बात करें
अपने किसी खास को याद करें
किया जो फैसला जन्माष्टमी की शुभकामना देने का
दिल ने कहा क्यों न आपसे शुरूआत करें...।।
socha kisee apane se baat karen apane kisee khaas ko yaad karen kiya jo phaisala janmaashtamee kee shubhakaamana dene ka dil ne kaha kyon na aapase shurooaat karen

"मेरा आपकी कृपा से सब काम हो रहा है
करते हो तुम कन्हिया मेरा नाम हो रहा है...।।
mera aapakee krpa se sab kaam ho raha hai karate ho tum kanhiya mera naam ho raha hai

"माखन चोर नन्द किशोर
बांधी जिसने प्रीत की डोर
हरे कृष्ण हरे मुरारी
पूजती जिन्हें दुनिया सारी
आओ उनके गुण गाएं सब मिल के जन्माष्टमी मनाये...।।
maakhan chor nand kishor baandhee jisane preet kee dor hare krshn hare muraaree poojatee jinhen duniya saaree aao unake gun gaen sab mil ke janmaashtamee manaaye

"कृष्णा जिनका नाम
गोकुल जिनका धाम
ऐसे श्रीकृष्ण भगवान को
हम सब का प्रणाम...।।
krshn jinaka naam gokul jinaka dhaam aise shree krshn bhagavaan ko ham sab ka pranaam

"चंदन की ख़ुशबू, रेशम का हार
सावन की सुगंध और बारिश की फुहार
राधा की उम्मीद और कन्हैया का प्यार
मुबारक हो आपको जन्माष्टमी का त्यौहार...।।
chandan kee khushaboo resham ka haar saavan kee sugandh aur baarish kee phuhaar raadha kee ummeed aur kanhaiya ka pyaar mubaarak ho aapako janmaashtamee ka tyauhaar

"कृष्ण जिनका नाम
गोकुल जिनका धाम
ऐसे श्री कृष्ण भगवान को
हम सब का प्रणाम...।।
krshn jinaka naam gokul jinaka dhaam aise shree krshn bhagavaan ko ham sab ka pranaam

"मन को भाये कान्हा की मनभावन मूरत
हटती नहीं दिल से उसकी प्यारी सूरत
यही तो है कान्हा की महिमा और प्यार
मुबारक हो आपको कृष्णा जन्माष्टमी का त्योंहार...।।
man ko bhaaye kaanha kee manabhaavan moorat hatatee nahin dil se usakee pyaaree soorat yahee to hai kaanha kee mahima aur pyaar mubaarak ho aapako krshna janmaashtamee ka tyonhaar

"नन्द के घर आनंद भयो जय कन्हैया लाल की
हाथी, घोड़ा, पालकी जय कन्हैया लाल की
कृष्ण जन्माष्टमी की शुभ कामनाएँ...।।
nand ke ghar aanand bhayo jay kanhaiya laal kee haathee, ghoda, paalakee jay kanhaiya laal kee krshn janmaashtamee kee shubh kaamanaen

"मैया यशोदा का लाल, गोकुल का वो है ग्वाल
जिनके जन्म से हुआ गोकुल और बृज निहाल
कृष्ण - कन्हैया रखे आपक सबको खुशहाल
कृष्ण जन्माष्टमी की सभी की हार्दिक बधाई...।।
maiya yashoda ka laal gokul ka vo hai gvaal jinake janm se hua gokul aur brj nihaal krshn kanhaiya rakhe aapak sabako khushahaal krshn janmaashtamee kee sabhee kee haardik badhae

"गोकुल में जिसने किया निवास
उसने गोपियों के संग रचा इतिहास
देवकी-यशोदा जिनकी मैया
ऐसे है हमारे कृषण कन्हैया...।।
gokul mein jisane kiya nivaas usane gopiyon ke sang racha itihaas devakee-yashoda jinakee maiya aise hai hamaare krshan kanhaiya

"पलके झुका के नमन करे
मस्तक झुका के वंदना करे
ऐसी नज़र दे दे मेरे कान्हा
जो बंद होते ही आपके दीदार करे...।।
palake jhuka ke naman kare mastak jhuka ke vandana kare aisee nazar de de mere kaanha jo band hote hee aapake deedaar kare

"जो केवल अपना भला चाहता है,वो दुर्योधन है
जो अपनों का भला चाहता है, वो युधिष्ठिर है
जो सबका भला चाहते हैं, वो श्री कृष्ण हैं...।।
Jo keval apana bhala chaahata hai vo duryodhan hai jo apanon ka bhala chaahata hai vo yudhishthir hai

"खुशियाँ आपके जीवन मे ला दे
खुशियो से ही आपका जीवन सज़ा दे
ना हो कोई दुख दुविधा आपके ज़िंदगी में
श्री कृष्णा इतनी आपको खुशियो की वजह दे...।।
khushiyaan aapake jeevan me la de khushiyo se hee aapaka jeevan saza de na ho koee dukh duvidha aapake zindagee mein shree krshna itanee aapako khushiyo kee vajah de

"हे कान्हा
आपके हृदय में
मुझे उम्रकैद मिले
थक जायें सारे वकील
फिर भी जमानत ना मिले...।।
he kaanha aapake hrday mein mujhe umrakaid mile thak jaayen saare vakeel phir bhee jamaanat na mile

"नन्द के घर आनन्द भयो
जो नन्द के घर गोपाल गयो
जय हो मुरलीधर गोपाल की
जय हो कन्हैया लाल की...।।
Nanda ke ghara ananda bhayo jo nanda ke ghara gopala gayo

"कान्हा को राधा ने प्यार का पैगाम लिखा
पूरे खत में सिर्फ कान्हा-कान्हा नाम लिखा...।।
kaanha ko raadha ne pyaar ka paigaam likha poore khat mein sirph kaanha-kaanha naam likha

"हे लालों के लाल हमारे प्‍यारे ठाकुर नंद लाल
बुराई से रक्षा करो, दुखों का करो संहार...।।
he laalon ke laal hamaare p‍yaare thaakur nand laal buraee se raksha karo dukhon ka karo sanhaar

"तेरा मेरा रिस्ता इतना खास हो जाये
की तू दूर रहके भी मेरे पास हो जाये
मन से मन का तार जुड़े कुछ इस तरह
की दर्द हमे हो और अहसास तुम हो जाये...।।
tera mera rista itana khaas ho jaaye kee too door rahake bhee mere paas ho jaaye man se man ka taar jude kuchh is tarah kee dard hame ho aur ahasaas tum ho jaaye

"मिशरी से मीठे नंद लाल के बोल
इनकी बाते है सबसे अनमोल
जन्माष्टमी के इस पावन अवसर पर
दिल खोल के जय श्री कृष्णा बोल...।।

"लोगो की रक्षा करने
एक उंगली पर पहाड़ उठाया
उसी कन्हैया की याद दिलाने
जन्माष्टमी का पावन दिन आया...।।

"मुरली मनोहर कृष्ण कन्हैया
जमुना के तट पे विराजे हैं
मोर मुकुट पर कानों में कुंडल
कर में मुरलिया साजे हैं...।।

"छोड़ा सबका दामन हठयोग में तुम्हारे
मेरी साँसे उखड़ रही वियोग में तुम्हारे
लौट आओ मोहने किस बात पे अड़े हो
मूर्त बनकर बस मंदिर में क्यों खड़े हो...।।

"पलकें झुकें और नमन हो जाये
मस्तक झुके और वंदन हो जाये
ऐसी नजर कहाँ से लाऊँ मेरे कन्हैया
कि आपको याद करूँ
और आपके दर्शन हो जाये...।।

"प्रेम से श्री कृष्ण का नाम जपो
दिल की हर इच्छा पूरी होगी
कृष्ण आराधना में लीन हो जाओ
उनकी महिमा जीवन खुशहाल कर देगी...।।

"प्रेम से श्री कृष्ण का नाम जपो, दिल की
हर इच्छा पूरी होगी, कृष्ण आराधना में
लीन हो जाओ, उनकी महिमा जीवन खुशहाल कर देगी...।।

"सबको नाच नचाये प्यारे कान्हा का गान
दिल को मोहित कर दे मुरली की मीठी तान
राधा संग रास रचाए कृष्णा हर रात
तभी तो रहती हर होठों पर कृष्णा की बात...।।

"कन्हैया हमारे दुलारे
वही सबसे प्यारे
माखन के लिए झगड़ जाये
गोपिया देखकर आकर्षित हो जाये
लेकिन सबके रखवाले
तभी तो सभी के दुलारे...।।

"है दुलारा कन्हैया हमारा
है सब से प्यारा कन्हैया हमारा
गोपियो भी जिसकी ओर खीची चली जाए
है इतना प्यारा कन्हैया हमारा...।।

"नन्द के लाल, यशोदा के पुत्र
कृष्ण जी प्यारे, यशोदा के दुलारे
सबके पालनहार, सबके रखवाले...।।

"पूरे विश्व में निराला मुरली वाला, ब्रज का गवाला
सब कहते नंद का लाला देखो आज आने वाला
जय हो नंद लाल की हाथी घोड़ा पालकी...।।

"नाम हैं जिनके बड़े निराले
माखनचोर, जगत के रखवाले
वो हैं कृष्णा बंसी वाले...।।

"कान्हा जो तेरे सत्संग का आनंद है
वो आनंद ओर कहा
जो मिलता है प्रसाद सुख का तेरे दरबार में
वेसा सुख ओर कहा...।।

"जिसने खाया माखन चुराकर
दीवाना बनाया बंसी बजाकर
उस कृष्ण को नमन है सर झुकाकर...।।

"यशोदा का कृष्णा बड़ा प्यारा
राधा का श्याम भी निराला
सबके रूप में एक ही मेरा कान्हा
जिसका रूप है बड़ा सुहाना...।।

"बलराम हैं जिसके भैया
जो पार लगाता सबकी नैया
बोलो कौन
वो है अपना किशन कन्हैया...।।

"उसकी लीला की बात निराली
जहा नाम हो उसका वहां आती बस खुशहाली
मधुबन का है वो कन्हैया
और गोपिया है जिसकी दीवानी...।।

"श्री कृष्ण गोविंद हरे मुरारे
हे नाथ नारायण, वासुदेव
त्रिभुवन के स्वामी, सखा हमारे
हे नाथ नारायण वासुदेव...।।

"बंसी ब्रज की जिसने नचाया
खुशी मनाओ उसके जन्म की
जिसने दुनिया को प्रेम सिखाया...।।

"रूप बड़ा प्यारा है
चेहरा बड़ा निराला है
बड़ी से बड़ी मुसीबत को
कन्हैया जी ने पल मे हल कर डाला है...।।

"एक राधा एक मीरा
दोनो ने श्याम को चाहा
अब श्याम पे है सारा भार
किस की प्रीत करे स्वीकार...।।

Loading...