Best Two Line Sad Shayari | Short Hindi Sad Shayari | 2 Line Sad Shayari

Best Two Line Sad Shayari | Short Hindi Sad Shayari | 2 Line Sad Shayari

"मोहब्बत के अंदाज़ जुदा जुदा से होते है
किसी ने टूट कर चाहा, ओर कोई चाह कर टूट गया...।।

"Mohabbat ke andaaj judaa judaa se hote hai
kisi ne tut kar chaahaa, or koi chaah kar tut gayaa...।।

"ना चाँद अपना था और ना तू अपना था
काश दिल भी मान लेता की सब सपना था...।।

"Naa chaand apnaa thaa aur naa tu apnaa thaa
kaash dil bhi maan letaa ki sab sapnaa thaa...।।

"कब तक तेरे फरेब को हादसे का नाम दूँ
ऐ इश्क तूने तो मेरा तमाशा बना दिया...।।

"Kab tak tere phareb ko haadse kaa naam dun
ai eshk tune to meraa tamaashaa banaa diyaa...।।

"मुझे खुद पर इतना तो यक़ीन है
कोई मुझे छोड़ तो सकता है मगर भुला नही सकता...।।

"mujhe khud par etnaa to yakin hai
koi mujhe chhod to saktaa hai magar bhulaa nahi saktaa...।।

"कोई नही आएगा मेरी ज़िदंगी मे तुम्हारे सिवा
एक मौत ही है जिसका मैं वादा नही करता...।।

"koi nahi aaagaa meri jidangi me tumhaare sivaa
ek maut hi hai jiskaa main vaadaa nahi kartaa...।।

"सामने होते हुए भी तुझसे दूर रहना
बेबसी की इससे बड़ी मिसाल क्या होगी...।।

"saamne hote hua bhi tujhse dur rahnaa
bebsi ki esse badi misaal kyaa hogi...।।

"जिस फूल की परवरिश हम ने अपनी मोहब्बत से की
जब वो खुश्बू के क़ाबिल हुआ तो औरो के लिए महकने लगा...।।

"jis phul ki paravarish ham ne apni mohabbat se ki
jab vo khushbu ke kaabil huaa to auro ke lia mahakne lagaa...।।

"सिर्फ़ यादों का एक सिलसिला रह गया
खुदा जाने उन से हुमारा क्या रिश्ता रह गया
एक चाँद छिप गया जाने कहाँ
एक सितारा उसे ढूंढता रह गया...।।

"sirph yaadon kaa ek silasilaa rah gayaa
khudaa jaane un se humaaraa kyaa rishtaa rah gayaa
ek chaand chhip gayaa jaane kahaan
ek sitaaraa use dhundhtaa rah gayaa...।।

"भरोसा ना करना इस दुनिया के लोगों पे
मुझे तबाह करने वाला मेरा बहुत अज़ीज़ था...।।

"bharosaa naa karnaa es duniyaa ke logon pe
mujhe tabaah karne vaalaa meraa bahut ajij thaa...।।

"उड़ने दे इन परिंदों को ऐ दोस्त
जो तेरे होंगे लौट ही आएँगे किसी रोज़...।।

"udne de en parindon ko ai dost
jo tere honge laut hi aaange kisi roj...।।

"आँधियों में भी जो जलता हुआ मिल जाएगा
उस दिये से पूछना, मेरा पता मिल जाएगा...।।

"aandhiyon men bhi jo jaltaa huaa mil jaaagaa
us diye se puchhnaa, meraa pataa mil jaaagaa...।।

"आज कोई ‪‎शायरी‬ नही बस इतना ‪सुन‬ लो
मेी ‪तन्हा‬ हू और ‪‎वजह‬ तुम हो...।।

"aaj koi ‪‎shaayri‬ nahi bas etnaa ‪sun‬ lo
mei ‪tanhaa‬ hu aur ‪‎vajah‬ tum ho...।।

"पीने को तो पी जाऊं ज़हेर भी उसके हाथो से मैं
पर शर्त ये है की गिरते वक़्त वो अपनी बाहों में संभाले मुझको...।।

"pine ko to pi jaaun jher bhi uske haatho se main
par shart ye hai ki girte vakt vo apni baahon men sambhaale mujhko...।।

"होठों ने सब बातें छुपा कर रखीं
आँखों को ये हुनर… कभी आया ही नहीं...।।

"hothon ne sab baaten chhupaa kar rakhin
aankhon ko ye hunar… kabhi aayaa hi nahin...।।

"रहते हैं आस-पास ही लेकिन साथ नही होते
कुछ लोग जलते हैं मुझसे बस ख़ाक नही होते...।।

"rahte hain aas-paas hi lekin saath nahi hote
kuchh log jalte hain mujhse bas khaak nahi hote...।।

"कौन कहता है कुछ तोड़ने के लिए पत्थर जरूरी है
लहजा बदल कर बोलने से भी बहुत कुछ टूट जाता है...।।

"kaun kahtaa hai kuchh todne ke lia patthar jaruri hai
lahjaa badal kar bolne se bhi bahut kuchh tut jaataa hai...।।

"शायरों की महफ़िलों में हम इसलिए भी जाते हैं
हम से बिछड़ कर शायद वो भी शायर हो गयी हो...।।

"shaayron ki mahaphilon men ham esalia bhi jaate hain
ham se bichhad kar shaayad vo bhi shaayar ho gayi ho...।।

"तेरी यादें हर रोज़ आ जाती है मेरे पास
लगता है तुमने बेवफ़ाई नही सिखाई इनको...।।

"teri yaaden har roj aa jaati hai mere paas
lagtaa hai tumne bevaphaai nahi sikhaai enko...।।

"आज परछाई से पूछ ही लिया क्यों चलती हो मेरे साथ
उसने भी हँसके कह दिया, दूसरा और कौन है तेरे साथ...।।

"aaj parchhaai se puchh hi liyaa kyon chalti ho mere saath
usne bhi hnaske kah diyaa, dusraa aur kaun hai tere saath...।।

"उन्हें क्या पता जो कहते है हर वक़्त रोया ना करो
मैं कैसे समझाऊं कुछ दर्द सहने के काबिल नही होते...।।

"unhen kyaa pataa jo kahte hai har vakt royaa naa karo
main kaise samjhaaun kuchh dard sahne ke kaabil nahi hote...।।

"ज़िंदगी की हक़ीकत से दो चार हो
अक्सर दिल अपना ही हम जला लेते है...।।

"jindgi ki hakikat se do chaar ho
aksar dil apnaa hi ham jalaa lete hai...।।

"कोई नही आएगा मेरी ज़िदंगी मे तुम्हारे सिवा
एक मौत ही है जिसका मैं वादा नही करता...।।

"koi nahi aaagaa meri jidangi me tumhaare sivaa
ek maut hi hai jiskaa main vaadaa nahi kartaa...।।

"मौसम की पहली बारिश का शौक तुम्हें होगा
हम तो रोज किसी की यादो मे भीगें रहते है...।।

"mausam ki pahli baarish kaa shauk tumhen hogaa
ham to roj kisi ki yaado me bhigen rahte hai...।।

"करो बड़े शोक़ से मुहब्बत ऐ चाहने वालो
मगर सोच लेना किसी काम के ना रहोगे बिछड़ने के बाद...।।

"karo bade shok se muhabbat ai chaahne vaalo
magar soch lenaa kisi kaam ke naa rahoge bichhdne ke baad...।।

"कमाल की मुहब्बत थी उसको हमसे यारों
बिन बताये ही शुरू हुई और बिन बतायें ही ख़त्म...।।

"kamaal ki muhabbat thi usko hamse yaaron
bin bataaye hi shuru hui aur bin bataayen hi khatm...।।

"मेरे दिल को आवाज देने वाले ये लफ़्ज भी आखिर बेवफ़ा निकले
सर्दियो कि जरा सी आहट मे ठिठुरना शुरु कर दिए...।।

"mere dil ko aavaaj dene vaale ye laphj bhi aakhir bevaphaa nikle
sardiyo ki jaraa si aahat me thithurnaa shuru kar dia...।।